You don't have javascript enabled. Please Enabled javascript for better performance.

Share your idea and suggestion to strengthen Solid Waste Management in Uttar Pradesh

Start Date: 26-07-2021
End Date: 31-08-2021

Solid Waste Management is all about how solid waste can be changed and used as a valuable resource i.e. ‘waste to wealth’. Due to the large number of Urban Local Bodies and ...

See details Hide details
उत्तर प्रदेश में 'सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट' को और मजबूती प्रदान करने हेतु अपने विचारों और सुझावों को साझा करें

Solid Waste Management is all about how solid waste can be changed and used as a valuable resource i.e. ‘waste to wealth’. Due to the large number of Urban Local Bodies and population waste generation is high. This waste can be converted into wealth in the form of compost and energy. The state also has a good number of STPs, so sludge can also be utilized easily.

Apart from this, the citizens have a very important role to play in solid waste management as well.
Share your idea and suggestion on how to strengthen ‘Solid Waste Management’ in Uttar Pradesh.

All Comments
Reset
125 Record(s) Found

kajal singh 1 year 5 months ago

सर सबसे पहले तो जो भी आर्थिक रूप से पिछड़े वर्ग हैं उनको शिक्षित करने की जरूरत है उनको शिक्षित करके उनसे ही आपको हर क्षेत्र में आपको सहायता मिलती रहेगी उनसे आप किसी भी फील्ड की शिक्षा देकर उसका भरपूर फायदा उठा सकते हैं क्योंकि इससे पहले बाटों और राज करो की नीति लागू रही है आप थोड़ा सा सहयोग देकर जिन्दगी भर उनका साथ पा सकते हैं कृपया इस विचार जरूर कीजियेगा धन्यवाद

Shanta Srivastava 1 year 5 months ago

आज के समय में कोई चीज बेकार नहीं है इसलिये सॉलिड वेस्ट को पुनर्चक्रित कर उपयोगी बनाकर गरीबें को भी सस्ते दामों पर उपलब्ध कराया जा सकता है ताकि गरीब भी हर वस्तु का उपयोग करने में सक्षम हो सकेंं!

Shanta Srivastava 1 year 5 months ago

किसानों को समूह के माध्यम से,बैंक रिण व मशरूम, अगरबत्ती, अचार मुरब्बा, जेम जैली आदि बनाने का प्रशिक्षण दिलाकर स्वरोजगार से आत्मनिर्भर बनाने में भी परियोजना सहयोगी है इसलिये इस परियोजना को पुन:उत्तर प्रदेश में चलाया जाना आवश्यक है!

Shanta Srivastava 1 year 5 months ago

साफ सफाई, घरों से निकलने वाले सूखे गीले कूड़े करकट से नैडप गड्ढा भरने वर्मी कम्पोस्ट जैविक खाद बनाने, जैविक खेती करने, गेहूँ धान के अलावा सब्जी उत्पादन, दलहन, तिलहन, चरी, हरा चारा आदि बोकर खेती में विविधता लाने के सथ महिला पुरूष

Shanta Srivastava 1 year 5 months ago

उत्तर प्रदेश में कुछ वर्ष पूर्व चलाये गये (विश्व बैंक) द्वारा पोषित (उ0प्र0 कृषि विविधीकरण परियोजना) को उ0प्र0 के हर जनपद में पुन: शुरू किया जाना आवश्यक है क्योंकि इस परियोजना के माध्यम से गाँव गाँव में

Shanta Srivastava 1 year 5 months ago

सूखे व गीले कूड़े करकट का इस्तेमाल नैडप कम्पोस्ट गड्ढे में भरने व वर्मी कम्पोस्ट जैविक खाद बनाने के लिये प्रत्येक न्याय पंचायत में एक किसान विद्यालय का गठन कर किसानों को प्रशिक्षित व जागरूक किया जाना आवश्यक है और इसके लिये .

Shanta Srivastava 1 year 5 months ago

बेरोजगार युवाओं को विशेष प्रशिक्षण, विशेष अनुदान, विशेष सुविधा प्रदान कर स्वरोजगार हेतु प्रेरित व प्रोत्साहित किया जाना सॉलिड वेस्ट के क्षेत्र में तथा स्वच्छ व स्वस्थ प्रदेश के निर्माण में आवश्यक है साथ ही

Shanta Srivastava 1 year 5 months ago

ग्रामीण क्षेत्रों में जगह बंजर जमीन की कोई कमी नहीं इसलिये प्रत्येक न्याय पंचायत/ग्राम पंचायत स्तर पर Reduce /Recycle /Reuse पुनर्चक्रित होने वाले ठोस कचरे को इकट्ठा करने के लिये "कलेक्शन सेन्टर" व "रिसाइकल सेन्टर" खोलने के लिये

Shanta Srivastava 1 year 5 months ago

इसलिये हम सभी प्रदेशवासियों जन जन की भागीदारी व जागरूकता ज़रूरी है हम जागरूक हों और अपने प्रदेश को स्वच्छ, स्वस्थ पर्यावरण व स्वस्थ जीवन जीने के लिये अपने अपने घरों में भी पेपर, ग्लास, प्लास्टिक, मेटल जैसे ठोस कचरे की छँटाई कर बदलकर इसे उपयोगी वस्तु के रूप में परिवर्तित कर मूल्यवान संसाधन के रूप में दुबारा उपयोग कर सकें!

Shanta Srivastava 1 year 5 months ago

आज शहरीकरण, आधुनिकीकरण, औद्योगिकीकरण और आर्थिक विकास के परिणामस्वरूप हमारे प्रदेश ही नहीं पूरे देश में बहुत बड़ी समस्या का रूप ले चुका है! दिनोंदिन बेतहासा बढती जनसंख्या और लोगों के जीवन स्तर में सुधार के कारण यह समस्या और भी जटिल हुई है